Skip to main content

पंतप्रधान कार्यालय हेल्पलाईन टोल फ्री नंबर: १८००-११-००३१

माननीय पंतप्रधान, भारत राष्ट्र,
श्री नरेंद्र मोदी,
पंतप्रधान कार्यालय,
साऊथ ब्लॉक, रायसीना हिल,
नवी दिल्ली, पिन- ११० ०११.
दूरध्वनी: ०११-२३०१२३१२.
              ०११-२३०१३१४९.
              ०११-२३०१९५४५.
फॅक्स :  *०११-२३०१६८५७.*

नरेंद्र मोदी फॅक्स नंबर:
+९१-११-२३०१५६०३.

नरेंद्र मोदी पर्सनल नंबर:
+९१-११-२३०१८९३९.

नरेंद्र मोदी फोन नंबर:
+९१-११-२३०१८६६८

पंतप्रधान कार्यालय हेल्पलाईन
टोल फ्री नंबर:
१८००-११-००३१.

नरेंद्र मोदी इ-मेल ऍड्रेस:
narendramodi1234@gmail.com

पंतप्रधान कार्यालय इ-मेल ऍड्रेस:
connect@mygov.nic.in

पंतप्रधान तक्रार सेल इ-मेल ऍड्रेस:
indiaportal@gov.in

मुख्यमंत्री, महाराष्ट्र राज्य कार्यालय,
सहावा मजला, मंत्रालय,
मुंबई.
दूरध्वनी: ०२२-२२०२५१५१.
              ०२२-२२०२५२२२.

फॅक्स नंबर: ०२२-२२०२९२१४.

इ-मेल: chiefminister@maharashtra.gov.in

Director General of Police,
DGP Maharashtra State,
पोलीस महासंचालक,
महाराष्ट्र राज्य,
महाराष्ट्र राज्य पोलीस मुख्य कार्यालय,
ओल्ड कौन्सिल हॉल,
शहीद भगत सिंग मार्ग, मुंबई,
पिन-४०० ००१.
महाराष्ट्र राज्य , भारत राष्ट्र.

फोन: ०२२-२२०२६६७२.

इ-मेल ऍड्रेस:
www.mahapolice.gov.in

Contact Person:
Shri Sanjiv Dayal.
माननीय श्री संजीव दयाळ.

पोलीस आयुक्त, ठाणे जिल्हा.
पोलीस आयुक्त कार्यालय,
पहिला मजला, कळवा ब्रिजजवळ, ठाणे पश्चिम.
पिन-४०० ६०१

फोन: ०२२-२५३४४४९९.

अतिरिक्त पोलीस आयुक्त, ठाणे जिल्हा,
पोलीस आयुक्त कार्यालय,
पहिला मजला, कळवा ब्रिजजवळ, ठाणे पश्चिम.
पिन-४०० ६०१.

फोन: ०२२-२५३४००७०.

Comments

Unknown said…
Resp. Sir
My son is studing at kOTA Rajasthan,I want to bring him home at Jalgaon Maharashtra because his mother is already under medical treatment due to having B.P.patient
Rajasthan government already permitted to all states to bring up their State student.UP, Uttarakhand, already sent the busses for it.
Humble request to pl arrange to send the busses from Maharashtra' to bring up same or pl arrange to issue permission pass to parents to bring up their child from KOTA
I hope you'll consider my application with sympathetically and shall cooperate me in this regard as earliest pl
Regards ,Raotol DM

Popular posts from this blog

पहले सेक्स की कहानी, महिलाओं की जुबानी.

क्या मर्द और क्या औरत, सभी की उत्सुकता इस बात को लेकर होती है कि पहली बार सेक्स कैसे हुआ और इसकी अनुभूति कैसी रही। ...हालांकि इस मामले में महिलाओं को लेकर उत्सुकता ज्यादा होती है क्योंकि उनके साथ 'कौमार्य' जैसी विशेषता जुड़ी होती है। दक्षिण एशिया के देशों में तो इसे बहुत अहमियत दी जाती है। इस मामले में पश्चिम के देश बहुत उदार हैं। वहां न सिर्फ पुरुष बल्कि महिलाओं के लिए भी कौमार्य अधिक मायने नहीं रखता। ये उत्तर अमेरिका की किशोरियों से लेकर दुनिया के अन्य देशों की अधेड़ उम्र तक की महिलाओं की कहानियां हैं, जो निश्चित ही अपने आप में खास हैं। आइए जानते हैं कुछ ऐसी ही चुनिंदा महिलाओं की कहानी, जो बता रही हैं अपने पहले सेक्स के अनुभव. टोरंटो की एक 32 वर्षीय महिला ने कहा कि जिसके साथ उसने पहली बार यौन संबंध बनाए या यूं कहें की उसने अपना कौमार्य खोया वह एक शादीशुदा आदमी था और उससे उम्र में तीन वर्ष अधिक बड़ा भी था। इसके बाद तो मुझे ऐसे अनुभव से घृणा हो गई।   महिला ने कहा- मैं चाहती थी कि एक बार यह भी करके देख लिया जाए और जब तक मैंने सेक्स नहीं किया था तब तो सब कुछ ठीक थ

Torrent Power Thane Diva Helpline & Customer Care 24x7 No : 02522677099 / 02522286099 !!

Torrent Power Thane Diva Helpline & Customer Care 24x7 No : 02522677099 / 02522286099 बिजली के समस्या के लिये आप Customer Care 24x7 No : 02522677099 / 02522286099 पर अपनी बिजली से सबंधित शिकायत कर सकते है। या Torrent Power ऑफिस जाकर भी अपनी शिकायत दर्ज करा सकते है। या उनके ईमेल id पर भी शिकायत कर सकते हो। To,                            Ass.Manager Torrent Power Ltd चद्ररगन रेसिटेंसी,नियर कल्पतरु जेवर्ल्स,शॉप नंबर-234, दिवा ईस्ट । consumerforum@torrentpower.com connect.ahd@torrentpower.com

#महाराष्ट्र के मा.मुख्यमंत्री #एकनाथ शिंदे जी,मेरा बेटे #कृष्णा चव्हाण #कर्नाटक से #ठाणे रेलवे पर स्टेशन आते वक़्त लोकल रेल्वे से उसका एक्सीडेंट में मौत होकर 3 साल गुजर जाने पर भी आज तक इस ग़रीब माता पिता को इंसाफ नही मिला हैं !!

#महाराष्ट्र के मा.मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे जी,मेरा बेटे कृष्णा चव्हाण #कर्नाटक से ठाणे रेलवे स्टेशन पर आते वक़्त लोकल रेल्वे से उसका एक्सीडेंट में मौत होकर 3 साल गुजर जाने पर भी आज तक इस ग़रीब माता पिता को इंसाफ नही मिला हैं !! आज तक किसी भी रेलवे के तरफ़ से कोई अधिकारी मेरे बेटे के ट्रेन एक्सीडेंट लेकर या कोर्ट केस से संबधित कोई भी इनफार्मेशन मुझे नही दी हैं. मेरे बेटे के मौत को लेकर कोई भी रेलवे डिपार्टमेंट से कानूनी लीगल मदत आज तक नही मिली हैं. #कृष्णा पुनिया चव्हाण को इंसाफ दिलाने के लिए जनता इस न्यूज़ पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें और साथ हीं कमेट्स बॉक्स में अपनी राय रखे !!