Skip to main content

अपराधिक गतिविधियां में संलिप्त अपराधी व्यक्तियों के पत्रकारिता में आ जाने से पत्रकारिता का पतन हो रहा है !!

               🙏 वी पी एस खुराना  स्वतंत्रपत्रकार 🙏


शोक मनाइए  प्रेस की आज़ादी में हम और नीचे गिर गए हैं !

पत्रकारिता को मिशन समझ कर करने वाले अब बिजनेस कर रहे है कही पन्द्रह सोलह वर्ष पूर्व अपराधिक गतिविधियां में संलिप्त  अपराधी व्यक्तियों के पत्रकारिता में आ जाने से पत्रकारिता का पतन हो रहा है.

वर्तमान समय में देखने को जो मिल रहा है वह कही पूर्व की एक चाल तो नहीं हैं क्योंकि इधर तो प्रेस की आजादी की  दुहाई दे कर अपराधी अपराध कर रहे हैं एक मामला सबके सामने अभी कुछ दिनो पूर्व हुआ ऐसा दुर्भाग्यपूर्ण कालखंड जिसमें प्रजातांत्रिक संसार के बचे थोड़े से मुल्क भी एक-एक करके तानाशाही व्यवस्थाओं में बदलते जा रहे हैं, ‘विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस ‘तीन मई के अवसर पर हमारे आसपास के ही दो मुल्कों के जाँबाज़ पत्रकार-फ़ोटोग्राफ़रों की कहानी से रूबरू होना ज़रूरी है। एक मुल्क भारत की पूर्वी सीमा से लगा म्यांमार बर्मा है और दूसरा पूर्व एशिया में स्थित ‘उगते सूर्य का देश’ जापान है। म्यांमार इस समय सैन्य तानाशाही की गिरफ़्त में है। जापान में भरपूर प्रजातंत्र है।कहानी की शुरुआत पंद्रह साल पहले से होती है। जापान की एक छोटी सी वीडियो-फोटो एजेंसी एपीएफ़ न्यूज़ के लिए काम करने वाले तब पचास वर्षीय केनजी नागाई 27 सितंबर 2007 के दिन म्यांमार की पुरानी राजधानी यंगून रंगून  में एक महत्वपूर्ण जगह पर पहुँचे हुए थे। वे वहाँ के एक ख्यात पैगोडा के नज़दीक की सड़क पर बौद्ध भिक्षुओं द्वारा सैन्य ज़्यादतियों के ख़िलाफ़ किए जाने शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन की वीडियोग्राफ़ी के लिए वहाँ गए थे। यंगून के स्थानीय पत्रकार और फोटोग्राफर्स भी वहाँ जमा थे।

बौद्ध भिक्षुओं का ‘सैफ़रॉन रिवोल्यूशन’ नामक शांतिपूर्ण प्रदर्शन अभी प्रारंभ ही हुआ था कि पहले पुलिस ने रास्ता बंद कर दिया और फिर सैन्य शासन के बंदूक़धारी जवान ट्रकों में भर कर वहाँ पहुँच गए और उन्होंने भीड़ पर गोलियाँ बरसाना शुरू कर दिया। एक सैनिक नेवीडियोग्राफ़ी कर रहे नागाई को भी नज़दीक पहुँचकर गोली मार दी। नागाई की वहीं मृत्यु हो गई। उस दिन के सैन्य गोली चलन में नागाई सहित दस लोगों की जानें गईं थी।म्यांमार के पत्रकारों की गिनती के अनुसार, आँग सू ची की चुनी गई सरकार का 2021 में तख्ता पलट दिए जाने के बाद क़ायम हुए सैन्य शासन में अब तक उनके तीन साथियों की जानें जा चुकी हैं और डेढ़ सौ से ज़्यादा हिरासत में हैं। इस समय हालात 2007 से ज़्यादा ख़राब हैं।सितंबर 2007 की घटना के अगले पंद्रह सालों तक इस बात का कोई पता नहीं चल पाया कि नागाई के उस वीडियो कैमरे का क्या हुआ जिसमें वे भिक्षुओं पर हुई सैन्य कार्रवाई को क़ैद कर रहे थे ! हुआ यह था कि सैन्य शासन की सख़्त निगरानी के बावजूद वह कैमरा म्यांमार के पत्रकारों की हिफ़ाज़त में सुरक्षित रहा फिर उसे एक हाथ से दूसरे हाथ देते हुए बैंकॉक पहुँचा दिया गया। जापान में निवासरत नागाई की बहन को म्यांमार के एक मीडिया संगठन की ओर से जब कैमरे के बारे में सूचित किया गया तो वे यक़ीन नहीं कर पाईं। मीडिया संगठन द्वारा बहन से निवेदन किया गया कि नागाई का छोटा सा सोनी हेंडीकेम पत्रकार उन्हें समरोहपूर्वक सौंपना चाहते हैं।बहन ने बैंकॉक पहुँचने की स्वीकृति दे दी।छब्बीस अप्रैल को बैंकॉक में हुए एक समारोह में जब डेमोक्रेटिक वॉइस ऑफ़ बर्मा के प्रमुख आय चान नेंग ने नागाई का वीडियो कैमरा उनकी बहन नोरोकी ओगावा को सौंपा तो वे यक़ीन ही नहीं कर पाईं।

कैमरे के सभी टेप्स और नागाई द्वारा क़ैद किए दृश्य ज्यों के त्यों सुरक्षित थे। बैंकॉक के समारोह में उन दृश्यों का प्रदर्शन किया गया। स्पष्ट दिखाई दे रहा था कि यंगून के प्राचीन सुले पैगोडा के नज़दीक की सड़क पर मंत्रोच्चार करते हुए बौद्ध भिक्षुओं पर सैनिकों द्वारा कैसे गोलियाँ चलाई गईं ! कैसे नागाई ने कैमरे का लेंस अपनी ओर कर लिया जिसमें भीड़ का तीतर-बितर होना नज़र आ रहा था। कैसे नागाई को गोली लगी और उनके नीचे गिरते ही उनका कैमरा बंद हो गया कहानी का क्लायमैक्स यह है कि जैसे ही एक सैनिक ने नागाई को नज़दीक पहुँचकर गोली मारी और वे सड़क पर गिरे डेमोक्रेटिक वॉइस ऑफ़ बर्मा संगठन से संबद्ध और फोटो एजेंसी रायटर के फोटोग्राफर अदरिस लतीफ़ ने उस मार्मिक क्षण को कहीं दूर से अपने कैमरे में क़ैद कर लिया। लतीफ़ को उस चित्र के लिए 2008 का प्रतिष्ठित पुलित्ज़र पुरस्कार प्राप्त हुआ था।विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस के मौक़े पर क्या हम सैन्य तानाशाही के बीच भी बहादुरी के साथ अपना फ़र्ज़ अदा कर रहे मायंमार के बहादुर पत्रकारों और फ़ोटोग्राफ़रों के बुलंद हौंसलों को सलाम नहीं करेंगे उपसंहार  ‘रिपोर्टर्स विदाउट बॉर्डर्स’ द्वारा जारी ‘2023 विश्व प्रेस स्वतंत्रता सूचकांक’ में दुनिया के 180 मुल्कों के बीच भारत और नीचे खिसककर 161 वें क्रम पर पहुँच गया है। पिछले साल हम 150 वें और 2016 में 133 वें क्रम पर थे। पाकिस्तान 2022 के 157वें क्रम से 150 वें पर आ गया है। उत्तरी कोरिया 180 वें क्रम पर है।

Comments

Popular posts from this blog

पहले सेक्स की कहानी, महिलाओं की जुबानी.

क्या मर्द और क्या औरत, सभी की उत्सुकता इस बात को लेकर होती है कि पहली बार सेक्स कैसे हुआ और इसकी अनुभूति कैसी रही। ...हालांकि इस मामले में महिलाओं को लेकर उत्सुकता ज्यादा होती है क्योंकि उनके साथ 'कौमार्य' जैसी विशेषता जुड़ी होती है। दक्षिण एशिया के देशों में तो इसे बहुत अहमियत दी जाती है। इस मामले में पश्चिम के देश बहुत उदार हैं। वहां न सिर्फ पुरुष बल्कि महिलाओं के लिए भी कौमार्य अधिक मायने नहीं रखता। ये उत्तर अमेरिका की किशोरियों से लेकर दुनिया के अन्य देशों की अधेड़ उम्र तक की महिलाओं की कहानियां हैं, जो निश्चित ही अपने आप में खास हैं। आइए जानते हैं कुछ ऐसी ही चुनिंदा महिलाओं की कहानी, जो बता रही हैं अपने पहले सेक्स के अनुभव. टोरंटो की एक 32 वर्षीय महिला ने कहा कि जिसके साथ उसने पहली बार यौन संबंध बनाए या यूं कहें की उसने अपना कौमार्य खोया वह एक शादीशुदा आदमी था और उससे उम्र में तीन वर्ष अधिक बड़ा भी था। इसके बाद तो मुझे ऐसे अनुभव से घृणा हो गई।   महिला ने कहा- मैं चाहती थी कि एक बार यह भी करके देख लिया जाए और जब तक मैंने सेक्स नहीं किया था तब तो सब कुछ ठीक थ

Torrent Power Thane Diva Helpline & Customer Care 24x7 No : 02522677099 / 02522286099 !!

Torrent Power Thane Diva Helpline & Customer Care 24x7 No : 02522677099 / 02522286099 बिजली के समस्या के लिये आप Customer Care 24x7 No : 02522677099 / 02522286099 पर अपनी बिजली से सबंधित शिकायत कर सकते है। या Torrent Power ऑफिस जाकर भी अपनी शिकायत दर्ज करा सकते है। या उनके ईमेल id पर भी शिकायत कर सकते हो। To,                            Ass.Manager Torrent Power Ltd चद्ररगन रेसिटेंसी,नियर कल्पतरु जेवर्ल्स,शॉप नंबर-234, दिवा ईस्ट । consumerforum@torrentpower.com connect.ahd@torrentpower.com

#महाराष्ट्र के मा.मुख्यमंत्री #एकनाथ शिंदे जी,मेरा बेटे #कृष्णा चव्हाण #कर्नाटक से #ठाणे रेलवे पर स्टेशन आते वक़्त लोकल रेल्वे से उसका एक्सीडेंट में मौत होकर 3 साल गुजर जाने पर भी आज तक इस ग़रीब माता पिता को इंसाफ नही मिला हैं !!

#महाराष्ट्र के मा.मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे जी,मेरा बेटे कृष्णा चव्हाण #कर्नाटक से ठाणे रेलवे स्टेशन पर आते वक़्त लोकल रेल्वे से उसका एक्सीडेंट में मौत होकर 3 साल गुजर जाने पर भी आज तक इस ग़रीब माता पिता को इंसाफ नही मिला हैं !! आज तक किसी भी रेलवे के तरफ़ से कोई अधिकारी मेरे बेटे के ट्रेन एक्सीडेंट लेकर या कोर्ट केस से संबधित कोई भी इनफार्मेशन मुझे नही दी हैं. मेरे बेटे के मौत को लेकर कोई भी रेलवे डिपार्टमेंट से कानूनी लीगल मदत आज तक नही मिली हैं. #कृष्णा पुनिया चव्हाण को इंसाफ दिलाने के लिए जनता इस न्यूज़ पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें और साथ हीं कमेट्स बॉक्स में अपनी राय रखे !!